सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

टैली ERP 9 के प्रमुख प्राइमरी फीचर्स कौनसे हैं ?

What are the primary features of Tally ERP 9?

जब हम Tally ERP 9 की बात करते हैं तब हम एक ऐसे सॉफ्टवेयर के बारे में बात करते हैं जो छोटे और बड़े  व्यवसायों के लेन-देन और हिसाब-किताब रखने के लिए उपयोग में लिया जाता हैं | लगभग तीस सालों से भारत में व्यवसायी टैली का उपयोग अपनी प्रतिदिन की व्यावसायिक गतिविधियों और व्यवसाय से सम्बंधित विभिन्न रिपोर्ट्स (Reports) जैसे बैलेंस शीट, प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट, बैंक अकाउंट इत्यादि के लिए करते आ रहे हैं  |टैली व्यवसाय से सम्बंधित विभिन्न फीचर्स का एक पैक हैं जो न सिर्फ विश्वसनीय हैं वरन कार्य करने हेतु लचीला भी हैं अर्थात अपनी आवश्यकतानुसार हम इसमें कार्य कर सकते हैं |
 अपने इस लेख में हम Tally ERP 9 के प्रमुख फीचर्स के बारे में जानकारी देंगे जो आमतौर पर एक व्यवसाय के मालिक (Business Owner) को व्यवसाय को मैनेज (Manage) करने के लिए चाहिए होती हैं |

टैली ERP 9 के प्रमुख प्राइमरी फीचर्स
Primary features of tally ERP 9

टैली ERP 9 के प्रमुख फीचर निम्न हैं:

एकाउंट्स (Accounts)

Tally ईआरपी 9 में व्यवसाय से सम्बंधित अकाउंट को मैनेज करना बहुत सरल होता है | बिज़नेस से सम्बंधित सभी लेन-देन, वाउचर्स की एंट्री, रिपोर्ट जेनरेट करना इत्यादि काम हम टैली में कर सकते हैं | बिल अथवा इनवॉइस (Invoice) के द्वारा किये गए लेन-देनों का लेखा-जोखा हम टैली में रख सकते हैं | बिल वाइज पेमेंट (Bill Wise Payment) की सभी जानकारियां मैंटेन (Maintain) कर सकते हैं | बैंक से कैश (Cash) अथवा चेक (Cheque) के द्वारा किये जा रहे सभी लेन- दिनों का हिसाब रख सकते हैं | प्रॉफिट और लॉस अकाउंट (Profit and Loss Account) को मैनेज कर सकते हैं | बैलेंस शीट (Balance Sheet) और ट्रायल बैलेंस (Trail Balance) चैक (Check) कर सकते हैं | समस्त लेन-देनों की रिपोर्ट्स निकाल सकते हैं |

टैक्सेशन (Taxation)

टैली ईआरपी 9 भारत में लागू सभी प्रकार के टैक्स को सपोर्ट (Support) करता हैं जैसे जीएसटी (GST), वैट (VAT), टीडीएस (TDS), सर्विस टैक्स (Service Tax) इत्यादि | इनवॉइस बनाते समय हम वस्तु पर निर्धारित दर से टैक्स की एंट्री कर सकते हैं |

बैंकिंग (Banking)

टैली ईआरपी 9 बैंकिंग के विभिन्न फीचर्स (Features) उपलब्ध कराती हैं | इन डिफ़ॉल्ट फीचर्स (Default Features) को हम अपनी आवश्यकतानुसार परिवर्तित कर सकते हैं | लेन-देन (Transaction) कैश (Cash) से हुआ हो या चेक (Cheque) से, ये सभी एंट्रिया टैली में की जा सकती हैं | आवश्यकता होने पर बैंक से सम्बंधित सभी ट्रांसेक्शन का प्रिंट भी निकला जा सकता हैं |

सेल्स मैनेजमेंट (Sales Management)

टैली ईआरपी 9 हमें व्यवसाय से सम्बंधित समस्त बिक्री (Sales) को व्यवस्थित (Manage) रखने में मदद करती हैं | सेल्स से सम्बंधित बिलिंग (Billing), इनवॉइस (Invoice) क्रिएट करना, सेल्स आर्डर (Sales Order) क्रिएट करना, सेल्स रिटर्न (Sales Return) को मैनेज करन, क्रेडिट नोट (Credit Note) बनाना, सेल्स और आइटम्स (Items) की ट्रैकिंग (Tracking) करना इत्यादि सभी काम टैली ईआरपी 9 में किये जा सकते हैं |

परचेज़ मैनेजमेंट (Purchase Management)

सेल्स की तरह ही टैली ईआरपी 9 मे हम व्यावसायिक परचेज़ (Purchase) से सम्बंधित सभी गतिविधियों को मैनेज कर सकते हैं | परचेज़ बिलिंग या इन्वॉयज़ (Invoice) एंट्री, परचेज़ रिटर्न के लिए डेबिट नोट (Debit Note) बनाना, परचेज़ आर्डर (Purchase Order) क्रिएट करना तथा परचेज़ से सम्बंधित सभी प्रकार की अपडेट (Update) रखना, ये सभी कार्य टैली में सरलता से किये जा सकते हैं |

पे-रोल (Payroll) एंट्री

टैली ईआरपी 9 में हमें पे-रोल (Payroll) से सम्बंधित विभिन्न फीचर्स मिलते हैं | एम्प्लॉई (Employee) का रिकॉर्ड (Record) रखना हो, एम्प्लॉई का ग्रुप बनाना हो, एम्प्लॉयी की पे-स्लिप (Pay Slip) बनानी हो, ये सभी काम पे-रोल (Payroll) के माध्यम से टैली में किये जा सकते हैं | एम्प्लॉई की सैलरी (Salary) में से कितना टैक्स कटेगा अथवा बोनस सैलरी में ऐड (Add) होगा, यह सभी काम पे-रोल (Payroll) के माध्यम से हो सकते हैं |

इंवेंटरी इनफार्मेशन (Inventory Information)

व्यवसाय में स्टॉक मैंटेन करने और स्टॉक की ट्रैकिंग (Tracking) करने के लिए हमें टैली ईआरपी 9 में सभी सुविधाएँ मिलती हैं | स्टॉक ग्रुप (Stock Group) बनाना, स्टॉक आइटम (Stock Item) क्रिएट करना, यूनिट ऑफ़ मेजर (Unit of Measure) बनाना, स्टॉक के लिए कैटेगरी क्रिएट करना, यह सभी काम हम टैली में सरलता से कर सकते हैं | यहाँ हम आइटम की date of manufacture , date of receipt or the expiry date भी एंटर (Enter) कर सकते हैं |टैली में इन्वेंटरी फीचर्स में हम इंवेंटरी या स्टॉक से सम्बंधित सभी फीचर्स सेट कर सकते हैं |

 

मैन्युफैक्चरिंग (manufacturing)और गोडाउन (Godown)

यदि बिज़नेस किसी वस्तु की मैन्युफैक्चरिंग (manufacturing) से सम्बंधित हैं तब कितना कच्चा माल (Raw Material) आया, किस गोदाम (Godown) में आया, आइटम की मैन्युफैक्चरिंग (manufacturing) में कितना कच्चा माल लगा, उसकी लागत कितनी रही, कितना माल आया, कितना बाहर गया, इन सब जानकारियों की एंट्री हम टैली में कर सकते हैं |

इन सबके आलावा भी टैली ईआरपी 9 हमें और भी कई उपयोगी सुविधाएं प्रदान करती हैं जैसे ई-बिलिंग (E-Billing), डेटा को एक्सपोर्ट करने की सुविधा , बैकअप (Backup) लेना, डेटा को ई-मेल के द्वारा अन्य व्यक्तियों को शेयर करना इत्यादि | टैली छोटे अथवा बड़े सभी व्यवसायों में लेन-देन एवं व्यावसायिक हिसाब-किताब के लिए एक अत्यंत सरल और सुविधाजनक सॉफ्टवेयर हैं |

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल वर्कबुक में नयी रो, कॉलम व शीट कैसे इंसर्ट कराये ?

माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल वर्कबुक में नयी रो, कॉलम व शीट कैसे इंसर्ट कराये ? How to insert new rows, columns and sheet in an Microsoft Excel workbook? जब हम एक्सेल में डेटा टाइप करते हैं तब कभी-कभी हमें पता नहीं होता की हमारा डेटा कितना बड़ा हैं या कई बार ऐसा होता हैं की कुछ डेटा लिखने से रह जाता हैं अथवा पुराने डेटा में ही नया डेटा जोड़ना (Add) होता हैं तब हमें शीट में नयी रोज़ (New Rows), कॉलमस (Columns) या नयी सेल्स (Cells) की जरुरत पड़ जाती हैं अथवा डेटा अधिक होने पर एक या एक से अधिक नयी शीट की आवश्यकता भी होती हैं | आइये जाने की हम कैसे शीट में नयी रो, कॉलम या सेल इंसर्ट करवा सकते हैं अथवा जरुरत पड़ने पर नयी शीट भी फाइल में ले सकते हैं | एक्सेल शीट में एक नयी सेल, रो, कॉलम व शीट इंसर्ट करना सबसे पहले हम उस फाइल को ओपन (Open) करेंगे जिसकी किसी शीट में हमें एक (या अधिक) नयी (New) सेल (Cell), रो (Row), कॉलम (Column) व शीट (Sheet) इंसर्ट करनी हैं | अब हम रिबन (Ribbon) पर स्थित होम टैब (Home Tab) पर क्लिक करेंगे | होम टैब से संबंधित सभी कमांड्स स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएँगी | यहां हमें दायीं ओर

पॉवरपॉइंट में शैक्षणिक प्रेजेंटेशन कैसे बनाये?

How to Make an Educational PowerPoint Presentation ? माइक्रोसॉफ्ट पॉवरपॉइंट (PowerPoint) का उपयोग प्रत्येक क्षेत्र में बढ़ रहा हैं, विशेष रूप से शिक्षा के क्षेत्र (Educational Field) में यह बहुत ही उपयोगी सिद्ध हो रहा हैं | शैक्षणिक गतिविधिओं में इसका दो तरह से उपयोग हो रहा हैं: पाठ्य पुस्तकों के पाठ (Chapter) का प्रेजेंटेशन (Presentation) तैयार करना शिक्षा से संबंधित ट्युटोरियल्स (Tutorials) का प्रेजेंटेशन तैयार करना अपने इस लेख में हम आपको पाठ्य पुस्तकों के पाठ (Chapter) का प्रेजेंटेशन (Presentation) तैयार करना सिखायेंगे, लेकिन उससे पहले हम पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन के बारे में जानकारी लेंगे | पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन क्या हैं? What is PowerPoint Presentation? माइक्रोसॉफ्ट पॉवरपॉइंट एक प्रेजेंटेशन प्रोग्राम (Presentation Program) हैं | इसका उपयोग डेटा (Data) और जानकारी (Information) को टेक्स्ट (Text), ग्राफ़िक्स (Graphics), एनिमेशन (Animation) इत्यादि के द्वारा अन्य व्यक्तियों के समक्ष प्रदर्शित (Present) करने के लिए किया जाता हैं | पॉवरपॉइंट प्रेजें

एमएस वर्ड डॉक्यूमेंट में कॉलम्स (Columns) कैसे इंसर्ट करे ?

एमएस  वर्ड डॉक्यूमेंट में कॉलम्स (Columns) कैसे इंसर्ट करे ? How to insert columns in MS Word document? हमने अखबारों और मैगजीन इत्यादि में टेक्स्ट को कॉलम्स (Columns) में विभाजित हुए देखा होगा | हम वर्ड डॉक्यूमेंट में भी टेक्स्ट को इसी तरह कॉलम्स में विभाजित कर सकते हैं | आइये इसका इसका चरणबद्ध तरीका सीखे | डॉक्यूमेंट में कॉलम्स (Columns) इंसर्ट करना हम जिस भी टेक्स्ट को कॉलम्स में विभाजित करना चाहते हैं पहले उसे सेलेक्ट कर लेंगे |  अब हम डॉक्यूमेंट में कॉलम्स इंसर्ट करने के लिए हम पेज लेआउट टैब (Page Layout Tab) पर क्लिक करेंगे | यह डिजाईन टैब (Design Tab) के दायीं ओर हैं | पेज लेआउट टैब पर क्लिक करने पर उसकी सभी कमांड्स स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएँगी | पेज लेआउट टैब में बायीं ओर (Left Side) पेज सेटअप ग्रुप (Page Setup Group) में कॉलम (Columns) कमांड प्रदर्शित होगी | जब हम कॉलम्स कमांड पर क्लिक करेंगे तो एक ड्राप डाउन लिस्ट (Drop Down List) स्क्रीन पर प्रकट होगी | कॉलम ड्राप डाउन लिस्ट में हमें निम्न विकल्प मिलेंगे: वन (One): एक कॉलम यानि डॉक्यूमेंट यथास्थिति: में एक कॉलम में ही हो